Leader

Leader

मणि शंकर अय्यर

मणि शंकर अय्यर एक भूतपूर्व भारतीय राजनयिक और सक्रीय राजनेता हैं। राजनीति में आने से पहले वे  26 साल तक भारतीय विदेश सेवा में कार्यरत रहे जिसमें से अंतिम पांच (1985-1989) राजीव गांधी के तहत प्रधानमंत्री कार्यालय में कार्य किया। राजनीति में एक नया कॅरिअर शुरू करने के लिए उन्होंने सन 1989 में विदेश सेवा से इस्तीफा दे दिया और 1991,1999 और 2004 में मायिलादुतुरई संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के सांसद चुने गए। इसके साथ-साथ 1996, 1998 और 2009 में उन्हें लोक सभा चुनाव में हार का मुह भी देखना पड़ा। अपने प्रशासकीय कार्यकाल के दौरान उन्होंने देश के सर्वप्रथम महावाणिज्यदूत के रूप में कराची में कार्यभार संभाला। उन्होंने ब्रसल्स, हनोई और बगदाद में राजनायिक शिष्टमंडल में हिस्सा लिया। दुनिया के सबसे बड़े लोकत्रंत्र की कूटनीति और राजनीति में उनके योगदान को देखते हुए उनकी मातृ संस्था केम्ब्रिज ने उन्हें मानद उपाधि से सम्मानित किया। एक राजनेता के तौर पर वे केंद्र सरकार में प्राकृतिक गैस और पेट्रोलियम मंत्रालय में केबिनेट मंत्री और मनमोहन सिंह की सरकार में पंचायती राज मंत्री भी रह चुके हैं।